यूपी में कोरोनो वायरस महामारी राज्य आपदा घोषित

यूपी में कोरोनो वायरस महामारी राज्य आपदा घोषित

March 25, 2020 07:07 PM
यूपी में कोरोनो वायरस महामारी राज्य आपदा घोषित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कोरोना वायरस से फैले संक्रमण (कोविड-19) को एक माह के लिए राज्य आपदा आपदा घोषित कर दिया गया है। मंगलवार को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल की स्वीकृति के बाद राज्य सरकार ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है। राज्य आपदा घोषित किये गए कोविड-19 और उससे उपजी परिस्थितियों से निपटने के लिए योगी सरकार ने राज्य आपदा मोचक निधि से 272.5 करोड़ रुपये जारी किये हैं। कोरोना वायरस के प्रकोप से व्यावसायिक गतिविधियां प्रभावित होने के कारण दिहाड़ी मजदूरों को भरण-पोषण सहायता उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न जिलों को 235 करोड़ रुपये जारी किये गए हैं। इस धनराशि का इस्तेमाल जिलाधिकारियों द्वारा पात्र परिवारों को निश्शुल्क खाद्य सामग्री बांटने और पात्र व्यक्तियों को हर महीने 1000 रुपये वितरण के लिए किया जाएगा।
राहत आयुक्त संजय गोयल ने बताया कि कोविड-19 की रोकथाम के लिए जिला स्तर पर अति आवश्यक चिकित्सीय सामग्री और उपकरण आदि खरीदने के लिए सभी जिलों को 17.25 करोड़ रुपये आवंटित कर दिये गए हैं ताकि जिला स्तर पर आवश्यक सामग्री की आपूर्ति सुचारु रूप से सुनिश्चित की जा सके।प्रदेश के छह जिलों-मेरठ, आगरा, कानपुर, झांसी, प्रयागराज और गोरखपुर में स्थापित मेडिकल कॉलेजों में से प्रत्येक को दो करोड़ रुपये दिये गए हैं। वहीं 12 जिलों-अंबेडकरनगर, आजमगढ़, सहारनपुर, कन्नौज, जालौन, बांदा, बदायूं, अयोध्या, बस्ती, बहराइच, फीरोजाबाद व शाहजहांपुर के मेडिकल कॉलेजों में से प्रत्येक को 50 लाख रुपये और लखनऊ को दो करोड़ रुपये आवंटित किये गए हैं। यह धनराशि मेडिकल कॉलेजों में आवश्यक चिकित्सा सामग्री व उपकरणों आदि खरीदने और क्वारंटाइन वार्ड की स्थापना के लिए दी गई है। चिकित्सीय सामग्री की आपूर्ति में मिलेगी मदद
राहत आयुक्त ने बताया कि अधिसूचना में दी गई व्यवस्था के क्रम में आपात सामग्री खरीदने के लिए उन वस्तुओं के लिए एक माह के लिए शिथिलता प्रदान की गई है जो चिकित्सा एवं स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग के अनुसार कोरोना वायरस के उपचार और रोकथाम के लिए जरूरी हों। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के प्रकोप से पैदा हुई लॉकडाउन की स्थिति में चिकित्सीय सामग्री व आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में इससे मदद मिलेगी।
केरल और ओडिशा में पहले घोषित- विश्व स्वास्थ्य संगठन कोरोना को पहले ही महामारी घोषित कर चुका है। वहीं देश में केरल और ओडिशा के बाद उत्तर प्रदेश ने इसे आपदा घोषित किया है। अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है कि भारत सरकार के आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा-2 की उप धारा (डी) और उत्तर प्रदेश आपदा प्रबंध अधिनियम -2005 की धारा-2 की उप धारा (जी) में किए गए प्रावधन के क्रम में कोरोना वायरस के कारण फैल रही महामारी को आपदा घोषित किए जाने की राज्यपाल ने स्वीकृति दे दी है।
 


pptvnews
About us | Contact us | Our Team | Privacy Policy | Terms & Conditions | Downloads
loading...