महाराष्ट्र में बाढ़ से बिगड़े हालात, शरद पवार ने पीएम मोदी से की बात

महाराष्ट्र में बाढ़ से बिगड़े हालात, शरद पवार ने पीएम मोदी से की बात

August 10, 2019 11:27 AM
 महाराष्ट्र में बाढ़ से बिगड़े हालात, शरद पवार ने पीएम मोदी से की बात

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के कई जिले बीते कुछ दिनों से बाढ़ की चपेट में हैं. बाढ़ का पानी बढ़ने से कई इलाकों का संपर्क टूट गया है. बाढ़ की तबाही के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने शुक्रवार शाम पीएम मोदी से बात की. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हस्तक्षेप करने की मांग करते हुए यह सुनिश्चित करने का आग्रह किया है कि कर्नाटक अलमाटी बांध से पर्याप्त मात्रा में पानी छोड़े जिससे पश्चिमी महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित जिलों में जलस्तर कम हो सके. शरद पवार ने बताया कि मोदी ने उन्हें आश्वस्त किया कि वह इस मामले में दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करेंगे. पश्चिमी महाराष्ट्र के पांच जिले बाढ़ की चपेट में हैं जहां 2.85 लाख लोग विस्थापित हो गए हैं. पवार ने कहा कि उन्होंने फोन पर मोदी से अनुरोध किया कि वह यह सुनिश्चित करें कि कृष्णा नदी पर बने अलमाटी बांध से कर्नाटक पांच लाख क्यूसेक पानी छोड़े ताकि महाराष्ट्र के सांगली और कोल्हापुर जिलों से बाढ़ का पानी जल्द से जल्द कम हो.

यह बांध कर्नाटक के नीचे की ओर स्थित है. गौरतलब है कि महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित सांगली जिले में बचाव कार्य में जुटी एक नौका के गुरुवार को एक जलाशय में पलट जाने से 14 लोगों की मौत हो गई और चार अन्य लोग घायल हो गए थी. पुणे मंडलायुक्त दीप म्हाइसेकर ने बताया था कि पुणे तहसील के ब्रह्मानल गांव के पास एक निजी नौका बाढ़ पीड़ित करीब 30 लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जा रही थी, तभी यह हादसा हुआ. अभी तक 9 शव बरामद हुए था, जबकि 21 लोगों की तलाश जारी था. सांगली में हालात खराब हैं. बाढ़ का पानी डिस्ट्रिक्ट जेल में घुस गया. जेल में पानी भरने के बाद वहां बंद 360 कैदियों को हटाना पड़ा. इस आपाधापी का फायदा उठाते हुए 2 कैदी भाग गए. बाद में एक को पकड़ लिया गया, जबकि दूसरे की तलाश जारी है. मंडलायुक्त ने बताया था कि पुलिस अधिकारी और आपदा प्रबंधन कर्मी लापता लोगों का पता लगाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं. सूत्रों ने बताया कि स्थानीय लोग जिले में भारी बारिश के बाद बाढ़ प्रभावित गांव में फंसे लोगों को बचाने के लिए निजी नौका का प्रयोग कर रहे थे.

ब्रह्मानल गांव कृष्णा नदी के किनारे स्थित है, जहां इलाके में भारी बारिश के कारण बाढ़ आ गई है. महाराष्ट्र के कई और इलाक़े भारी बारिश और बाढ़ की मार झेल रहे हैं. कोल्हापुर ज़िले में हालात बेहद खराब हैं. कई गांव पानी में डूबे हुए हैं. हजारों लोग जहां-तहां फंसे हुए हैं. स्थानीय प्रशासन के अलावा NDRF, सेना, वायुसेना, नेवी और गोताखोरों की टीम लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने में जुटी है. कोल्हापुर के रिहाइशी इलाक़ों में भी पानी भरा हुआ है. घरों से लेकर दुकान तक पानी में डूबे हुए हैं. सड़कें तालाब बनी हुई हैं. लोगों को बोट के जरिए निकाला जा रहा है. बुधवार को लोगों को रेस्क्यू कर ले जा रही एक बोट बीच पानी में पलट गई. हालांकि, रेस्क्यू टीम ने ट्यूब के सहारे लोगों को सुरक्षित निकाल लिया. महाराष्ट्र के अलग-अलग इलाकों से डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों को निकाला गया है. मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस आज कोल्हापुर और सांगली के प्रभावित इलाक़ों में जाकर हालात की समीक्षा करेंगे.


pptvnews
About us | Contact us | Our Team | Privacy Policy | Terms & Conditions | Downloads
loading...