जनता कर्फ्यू : छह घंटे में बिक गया 20 करोड़ का सामान, फल-सब्जी, राशन का स्टॉक कर रहे लोग

जनता कर्फ्यू : छह घंटे में बिक गया 20 करोड़ का सामान, फल-सब्जी, राशन का स्टॉक कर रहे लोग

March 21, 2020 02:42 PM
जनता कर्फ्यू : छह घंटे में बिक गया 20 करोड़ का सामान, फल-सब्जी, राशन का स्टॉक कर रहे लोग

‘जनता कर्फ्यू’ के चलते मेरठ में किराना व्यापारियों ने गुरुवार को छह घंटे में 20 करोड़ से ज्यादा का कारोबार किया। यह ग्राफ शुक्रवार को भी बढ़ता नजर आया। लोग बाजार में उमड़ पड़े और जमकर खरीदारी की। कई आशंकाओं के बीच लोग सामान का स्टॉक करने में जुटे हैं।  

हालत यह है कि दो दिन से दुकानों पर ग्राहकों की लाइन लगी है। व्यापारी भी मांग बढ़ने पर मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। होली पर भी बाजार यह आंकड़ा नहीं पार कर पाया था। इन सबके बीच लोगों को समझाने के लिए कोई भी अधिकारी नजर नहीं आया।
देशभर में स्वास्थ्य संबंधी इमरजेंसी है। प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद भी लोग अफवाहों में फंस रहे हैं। सोशल मीडिया पर भी अफवाहें फैलाई जा रही हैं। संयुक्त व्यापार संघ मंत्री एवं सदर किराना व्यापारी अंकित गुप्ता ने बताया कि  गुरुवार को बाजार में दोपहर तीन बजे के बाद भीड़ उमड़ पड़ी।

अफवाह के चलते लोगों ने घरों में जरूरत से ज्यादा स्टॉक कर लिया। यह सिलसिला शुक्रवार को भी जारी रहा। संयुक्त व्यापार संघ महामंत्री एवं कोटला बाजार व्यापारी सरदार दलजीत सिंह ने बताया कि व्यापारियों के साथ संगठन पदाधिकारी लोगों को जागरूक कर रहे हैं कि किसी भी हालत में बाजार बंद नहीं होगा। हालांकि जनता कर्फ्यू का पालन किया जाएगा। इसका सीधा फायदा जनता को ही होगा।
भीड़ रोकने का इंतजाम नहीं
कोरोना के चलते बाजार बंद होने और लॉक डाउन के अफवाहों के चलते दो दिन से बाजार में भीड़ उमड़ रही है। शुक्रवार की सुबह दिल्ली रोड स्थित नवीन मंडी में भी ग्राहकों का रेला लगा रहा। भीड़ जुटती रही, लेकिन प्रशासनिक इंतजाम कहीं नहीं दिखा। शनिवार को भी सुबह से ही लोग बड़ी संख्या में राशन की दुकानों पर नजर आए।

फर्ज कीजिए अगर इस भीड़ में एक व्यक्ति संक्रमित हुआ, तो हालात क्या होंगे इसका अंदाजा लगाना भी मुश्किल है। जिले का प्रशासनिक अमला वक्त की इस नजाकत को कब समझेगा? क्या स्थिति बिगड़ने का इंतजार किया जा रहा है?
सदर एवं शहर मंडी भाव
चीनी                :     38 रुपये किलो
दाल अरहर        :     92 रुपये किलो
दाल मूंग           :     100 रुपये किलो
दाल उड़द          :     110 रुपये किलो
दाल चना          :     68 रुपये किलो
तेल सरसों           :     95 रुपये लीटर
तेल रिफाइंड         :      90 रुपये लीटर
चावल मीडियम      :     50 रुपये किलो
आटा (10 किलो)    :     260 रुपये
बेसन                   :     72 रुपये किलो
मंडी पहुंचे तीन गुना ज्यादा खरीदार
कोरोना के खौफ के बीच अफवाहों में आकर लोग घरों में खाने पीने का सामान स्टाक करने में लगे हैं। शासन और प्रशासन भले ही जनता को खाद्य सामग्री हर हालत में उपलब्ध कराने की सूचना जारी कर रहा हो, लेकिन लोग ध्यान नहीं दे रहे हैं। सभी लोग कम से कम महीने भर के लिए घर में सब्जी, दाल, चावल, घी, तेल, मसाले, आदि जमा कर रहे हैं। शुक्रवार को नवीन गल्ला मंडी और सब्जी मंडी में खरीदारों की लाइन लगी रही।

भीड़ देखकर मंडी समिति अधिकारी और थोक विक्रेता परेशान रहे। दोपहर 12 बजे तक थोक और फुटकर विक्रेताओं के पास सब्जी न के बराबर बची। यह सूचना शहर से गांव तक फैल गई। इसके बाद किसान ट्रैक्टर ट्राॅलियों में आलू भरकर मंडी पहुंचने लगे। सब्जी मंडी अन्य दिनों की तुलना में तीन गुना अधिक कारोबार हुआ। आढ़तियों के मुताबिक, मंडी में सब्जी की कमी नहीं होगी। मंडी रोज खुलेगी।
आलू महंगा टमाटर लाल
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की घोषणा के चलते लोगों ने खाद्यान्न जमा करना शुरू कर दिया। इसका असर बाजारों पर दिखाई दे रहा है। मांग बढ़ने पर महंगाई भी बढ़ती नजर आई। सब्जी मंडी में सबसे ज्यादा खपत और महंगाई आलू और टमाटर की दिखी। आलू 200 रुपए क्विंटल महंगा बिका और टमाटर भी अधिक ‘लाल’ नजर आया।

शुक्रवार को सुबह छह बजे से लेकर दोपहर 12:30 बजे तक नवीन फल, गल्ला और सब्जी मंडी का हाल देखा। अगर हम सब्जी मंडी की बात करें तो सुबह पांच बजे से ही मंडी में खरीदार पहुंचने शुरू हो गए। आठ बजे फुटकर में सब्जी खरीदने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। भीड़ के चलते दिल्ली रोड तक जाम लग गया।


pptvnews
About us | Contact us | Our Team | Privacy Policy | Terms & Conditions | Downloads
loading...